New stories

6/recent/ticker-posts

15 अगस्त 2021 independence day 2021 speech in hindi

             "जय हिंद जय भारत"

         "स्वतंत्रता दिवस अमर रहे"

15 अगस्त ( independence day )

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 

     स्वतंत्रता दिवस हर वर्ष 15 अगस्त को मनाया जाने वाला राष्ट्रीय पर्व है। इसे हम देशभक्ति और हर्ष उल्लास के साथ हर वर्ष मनाते हैं। इस वर्ष हम 75 वां स्वतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं। 15 अगस्त शिक्षकों और बच्चों को बेसब्री से इंतजार रहता है। विद्यालयों में अनेक कार्यक्रम होते हैं जिनमें बच्चे भाषण देशभक्ति गीत और उन महान स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बताते हैं जिनसे हमें प्रेरणा मिलती हैं। विद्यालयों में ध्वजारोहण के उपरांत राष्ट्रगान किया जाता है। जिसमें सभी बच्चे जोश से भर जाते हैं और सभी के चेहरों पर मुस्कान सा होता है।

 स्वतंत्रता दिवस का इतिहास 

     दरअसल 15 अगस्त सन 1947 को हमारा देश तकरीबन 200 वर्षों से गुलामी में रहे अंग्रेजों से आजाद हुआ। आजादी का मतलब वही समझ सकता है जो कभी किसी के गुलाम में हो और हमारा देश तकरीबन 200 वर्षों से अंग्रेजों के गुलाम में थे। अंग्रेज बहुत क्रूर होते थे। वह भारत वासियों पर अत्यधिक अत्याचार करते थे। हमारे देश में जाने ऐसे बहुत से स्वतंत्रता सेनानी हुए जिनकी बदौलत हम आजादी की जिंदगी जी रहे हैं। इसलिए हम हर वर्ष 15 अगस्त को इन स्वतंत्रता सेनानियों की याद में उन्हें श्रद्धांजलि पूर्वक नमन करते हैं। और आजादी की खुशी में हर्ष उल्लास रहते हैं। 15 अगस्त सन 1947 को हमारे देश के  प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी लाल किले पर अपने देश के गौरव झंडे को हराया था। तब से प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को हमारे देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर ध्वजारोहण करती हैं। हमारी स्वतंत्रता सेनानियों को नमन करते हुए 21 तोपों की श्रधान्जली दी जाती हैं। देश के प्रधानमंत्री भारत वासियों को संबोधित करते हैं और सेना द्वारा अपना शक्ति प्रदर्शन , परेड मार्च पूरी दुनिया को दिखाया जाता है। हमारे देशवासियों में के मन में देशभक्ति के साथ-साथ पूरे जोश के साथ भरा रहता है। इस दिन के बारे मे जितना भी लिखु बहुत कम है। क्योंकि इस एक दिन के लिए हमें 200 वर्षो का इंतजार करना पड़ा। न जाने इतने कई सारे स्वतंत्रता सेनानी हुए जो अपना पूरा जीवन इस आजादी को पाने के लिये लगा दिया। कई ऐसे भी हुए जो अपने बचपन मे ही शहिद हो गए। इन सेनानियों को मेरा सत - सत नमन जिनकी वजह से आज मैं आजादी का जीवन जी रहा हूँ।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ