New stories

6/recent/ticker-posts

New hindi kahaniyan, बच्चों की नई कहानियाँ एकता मे शक्ति की kahaniyan

 New hindi kahaniyan, बच्चों की नई कहानियाँ एकता मे शक्ति की kahaniyan

यदि कमजोर से भी कमजोर प्राणी एकजुट हो जाएं तो वे एक शक्तिशाली प्राणी को भी पराजित कर देगा।  दोस्तों एकता में असीम शक्ति है। एकता पर एक kahaniyan लेकर आया हूं, New hindi kahaniyan बच्चों की नई कहानियाँ एकता मे शक्ति की kahaniyan इसे अंत अवश्य पढ़ें। 

Your queries :- New kahaniyan, new hindi kahaniyan, bacchon ki kahaniyan, acchi acchi kahaniyan. बच्चों के लिए नई कहानियाँ, moral story for kids. Kahaniyan

New hindi kahaniyan, बच्चों की नई कहानियाँ एकता मे शक्ति की kahaniyan
बच्चों के लिए नई कहानियाँ

 एक जंगल में एक पेड़ पर गौरैय्या और उसका पति रहता था। वह अपनी घोसले में कुछ अंडे दी हुई थी। वह उससे बच्चे निकलने का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। 

  रोज की तरह आज भी गोरिया अपने अंडों को से रही थी। और उसका पति देव भोजन पानी की तलाश में निकला था। तभी एक गुस्सा हांथी वहां आते हैं और आसपास के पेड़ पौधों को गिराने लगते हैं। गुस्से हाथी गौरैय्या वाले पेड़ को भी गिराने की कोशिश की, लेकिन पेड़ इतना मजबूत था, कि हाथी उसे गिराना नहीं पाया। वह वापस लौट गया।  

 पेड़ तो नहीं गिरा लेकिन पेड़ के हिलने से गोरैया का सारा अंडा नीचे गिर गया और टूट गया। गोरिया फूट-फूट कर रोने लगी। जब उसका पति देव आता है। वह भी  उसकी बात सुन दुखी हो जाता है।

 वह हाथी से बदला लेना चाहता था इसलिए उन्होंने अपने मित्र कठफोड़वा के पास गया और सारी बात बता डाला। कठफोडवा भी गोरिया की मदद करना चाहता था। 

  कठफोड़वा अपने दो दोस्त मधुमक्खी और मेंढक के सांथ मिलकर यह तीनों प्लान बनाने लगे। 

 अपने बनाए हुए योजना के अनुसार, मधुमक्खी हाथी के कानों में गाना गुनगुनाने लगी। हाथी को गाना बहुत बढ़िया लग रहा था। हांथी उसी की धुन में खो गया। 

 इसी का फायदा कठफोड़वा ने उठाया, वह मौका पाते ही हाथी के दोनों आंखों को फोड़ डाला। 

  मेंढक भी अपनी दल के साथ दल दल के पास टर्राने लगे। हांथी यह सोच कि पास में ही तालाब है वह दलदल में आकर फस गया। दलदल में फंसने की वजह से उसकी मृत्यु हो गई। 

 दोस्तों आपने देखा कि किस प्रकार से तीन कमज़ोर प्राणी एक विशाल हाथी को पराजित कर दिया। हम तो इंसान है यदि एकजुट हो जाएं तो बहुत से मुसीबतों का सामना कर सकते हैं और हां यदि एकता में तालमेल नहीं हो, तो कुछ भी नहीं किया जा सकता इसलिए तालमेल का होना बेहद जरूरी है। 

 एकजुट रहिये अपने परिवार मे अपने समाज मे अपने मुहल्ले और गांव मे इसी के सांथ आज फिर विदा लेता हूँ। कल फिर एक नई कहानी के सांथ लौटूंगा तब तक आप खुश रहिये मुस्कुराते रहिये। 

 यह कहानी आपको कैसी लगी हमें कमेंट अवश्य करें धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ