New stories

6/recent/ticker-posts

कहानी :- आपके लिए क्या सही है? ये आपसे बेहतर कोई नहीं जान सकता।

 कहानी :- आपके लिए क्या सही है ये आपसे बेहतर कोई नहीं जान सकता। 

  आप मे से कितने लोग ऐसे है, जो अपने सांथ गलत हो जाने पर भगवान को कोसते है? अपने हिस्से का संघर्ष ही नहीं करते। यदि आप अपने हिस्से का संघर्ष करते हो तो भगवान भी आपके सांथ होता है। चलिये समझते है एक छोटी सी कहानी से :-

 आपके लिए क्या सही है ये आपसे बेहतर कोई नहीं जान सकता। 
Motivationalwords
Motivationalwords.in

 कुछ लोग समुद्र के रास्ते से विदेश जा रहे थे। अचानक आई समुद्र दुर्घटना मे सभी डूब गए। लेकिन उनमे से एक व्यक्ति बच गया और वे जैसे तैसे तैरते हुए किनारे पर पंहुचा। वह स्थान एक निर्जन, समसान टापू था। 

 वह व्यक्ति मन हि मन भगवान को कोसने लगा।" हे भगवान इस निर्जन टापू मे भेजने से अच्छा तो वहीं समुद्र मे डुबो देते। खैर जीवित रहने के लिए कुछ ना कुछ तो करना ही पड़ेगा।"

 वह व्यक्ति यही आश लेकर बैठा रहता कि, कोई ना कोई अवश्य आएगा मुझे बचाने के लिए। 

 वह व्यक्ति अपने रहने के लिए वही पर एक झोपडी बना लिया। कुछ महीने ऐसे हि बीत गया। वह अकेला पागल सा हो रहा था। एक दिन भोजन की तलाश मे जंगल की ओर चला गया। जब वह लौट कर आया उसने पाया कि, उसकी झोपडी पूरी तरह से जल चुकी है। सिर्फ राख बचा है और उससे निकलने वाली धुआँ। वह व्यक्ति यह सब देखकर अत्यधिक दुखित हो जाता है और हताश मन से भगवान से शिकायत करने लगा।" हे भगवान आप मूझे बचा नहीं सकते तो कम से कम चैन से रहने तो देते। 

 जाने मेरे सांथ क्या होगा? सोचते-सोचते वही पर ही सो गया। अगले दिन एक जहाज की आवाज से वह व्यक्ति उठ गया। व्यक्ति नाविक से पूछता है :- क्या आप मुझे बचाने के लिए आए हैं।

 नाविक :- हाँ, हम आपके लिए ही आए हैं।

 व्यक्ति :- आपको ये कैसे पता चला? कि मैं यहाँँ हूँ ।

 नाविक :- हम यहाँँ से गुजर रहे थे, लेकिन आपने जो धुए से सिग्नल दिए थे, उसी को देखकर हम यहाँँ पर पहुचे है। 

 वह व्यक्ति अपने आप पर शर्मिंदा होते हुए कोसते है।" हे भगवान ये मैंने क्या कर दिया, ना जाने भूल वस मैं भगवान को उल्टा - सुलटा कह दिया, छमा करना प्रभु, मैं आपकी लीला को समझ नहीं पाया। 

 दोस्तों सभी के जीवन मे उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। इससे कभी भी मत घबराना और ना ही भगवान को दोस देना। ये समझ लेना कि भगवान मेरा परीक्षा ले रहा है कि मैं कितना काबिल हूँ। यदि नहीं हूँ, तभी तो भगवान मुझे कड़ी मुसीबतों मे डालकर मुझे काबिल बना रहा है।

 आशा करता हूँ। आप सभी समझ गए होंगे। यदि यह आर्टिकल आपको समझ मे नहीं आया तो प्लीज हमें कमेंट अवश्य करना। जिससे हमें पता चले की हमसे कंहा त्रुटि हुई है। जिसे आगे सुधारा जा सके।   


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ